શોધો
ગુજરાતી
બધા શ્રેણીઓ
    Menu Close
    Back to all

    दुनिया से मैं हारा

    दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार, यहां से गर जो हारा, कहां जाऊंगा सरकार ।

    दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
    यहां से गर जो हारा, कहां जाऊंगा सरकार ।

    सुख में प्रभुवर तेरी याद ना आयी,
    दुःख में प्रभुवर तुमसे प्रीत लगाई ।
    सारा दोष हैं मेरा, मैं करता हूं स्वीकार,
    यहां से गर जो हारा, कहां जाऊंगा सरकार ||1||
    दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार….
    मेरा तो क्या हैं, मैं तो पहले से हारा,
    तुमसे ही पूछेगा ये संसार सारा ।
    डूब गई क्यों नैय्या, तेरे रहते खेवनहार,
    यहां से गर जो हारा, कहां जाऊंगा सरकार ||2||
    दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार….
    सबकुछ लुटा है, बस लाज बची हैं,
    तुमपे ही दादा मेरी आस बंधी हैं ।
    सुना हैं तुम सुनते हो, हम जैसो की पुकार,
    यहां से गर जो हारा, कहां जाऊंगा सरकार ||3||
    ટિપ્પણીઓ
    તમારી ટિપ્પણી મૂકો Close
    ફક્ત નોંધાયેલા વપરાશકર્તાઓ ટિપ્પણીઓ છોડી શકે છે.
    Jai adinath _/\_