શોધો
ગુજરાતી
બધા શ્રેણીઓ
    Menu Close
    Back to all

    माता मरुदेवी ना नंद | आदिनाथ भगवान स्तवन

                                                                           
     
    माता मरुदेवी ना नंद, माता मरुदेवी ना नंद, 
    देखी ताहरी मूरति मारु, मन लोभाणुजी,
    के मारुं दिल  लोभाणुजी
    करुणानागर करुणासागर काया कंचन वान (2)
    धोरी-लंछन पाउले कोई, धनुष पांचसें मान ||1||
    त्रिगडे बेसी धर्म कहंता, सुणे पर्षदा बार (2)
    योजन गामिनी वाणी मीठी, वरसंती जळधार ||2||
    उर्वशी रूडी अप्सरा ने, रामा छे मनरंग (2)
    पाये नेपूर रणझणे काई, करती नाटारंभ ||3||
    तुंही ब्रह्मा, तुंही विधाता, तू जग-तारणहार (2)
    तुज सरीखो नहि देव जगतां, अडवडिया आधार ||4||
    तुंही भ्राता, तुंही त्राता, तुंही जगतनो देव (2)
    सुर-नर-किन्नर-वासुदेवा, करता तुज पद सेव ||5||
    श्री सिद्धाचल तीरथ केरो, राजा ऋषभ जिणंद (2)
    कीर्ति करे माणेकमुनि ताहरी, टाळो भव भय फंद ||6||
     

     

    ટિપ્પણીઓ
    તમારી ટિપ્પણી મૂકો Close